ईरान के विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ का कहना है कि ईरान विरोधी अमरीकी प्रतिबंधों के साथ वाशिंग्टन के राजनैतिक और आर्थिक लक्ष्य प्राप्त नहीं होंगे। इस्लामी गणतंत्र ईरान के विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने तुर्की में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि अमरीका, 4 नवम्बर को ईरान विरोधी नये प्रतिबंधों के आरंभ के साथ अपने उद्देश्य को प्राप्त नहीं करेगा।

ईरान के विदेशमंत्री ने कहा कि ट्रम्प की ओर से ईरान विरोधी आर्थिक प्रतिबंध और अमरीका की ओर से परमाणु समझौते का उल्लंघन, मनोवैज्ञानिक हथकंडे हैं। उन्होंने कहा कि यूरोपीय संघ 4 नवम्बर तक अपनी व्यवहारिक कार्यवाही आरंभ करेगी जिसके परिणाम में अमरीका और अधिक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अकेला पड़ जाएगा।

उन्होंने कहा कि आज कुछ क्षेत्रीय देशों के अतिरिक्त कोई देश इस्लामी गणतंत्र ईरान के विरुद्ध अमरीकी कार्यवाहियों का समर्थन नहीं कर रहा है। दूसरी ओर विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने बताया कि क्षेत्रीय संकटों के समाधान के लिए तेहरान, अंकारा और बाकू के बीच संयुक्त इरादा पाया जाता है।

विदेशमंत्री ने मंगलवार को इस्तांबोल में तुर्की और आज़रबाइजान गणराज्य के विदेशमंत्रियों के साथ संयुक्त प्रेस कांफ़्रेंस में कहा कि तीनों देशों के पास क्षेत्रीय समस्याओं के शांतिपूर्ण समाधान, जनता की आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने और सहयोग को मज़बूत बनाने के लिए संयुक्त इरादा पाया जाता है।

ईरान के विदेशमंत्री ने इसी प्रकार ईरान के परमाणु समझौते के समर्थन में क्षेत्रीय देशों के सहयोग और अमरीका की एकपक्षीय कार्यवाही की निंदा की सराहना की।