रियाद – पर्यटन और राष्ट्रीय विरासत (एससीटीएच) के सऊदी आयोग की देखरेख में पुरातात्विक स्थलों का पता लगाने के लिए एक संयुक्त सऊदी-फ़्रेंच मिशन ने रियाद के दक्षिण में कई पहाड़ों में लगभग 100,000 साल पुरानी साइटें देखी हैं, ज़्यादातर साईटटे अल-खर्ज में देखी गयीं है.

इन साईटो से टूटी हुई मिट्टी के बर्तन, कुछ सादे और कुछ हरे रंग में चित्रित और पीले, लाल और नीले रंग में गिलास और रंग से बने कई टूटे कंगन पाए जाते हैं, साथ ही पत्थर के कटोरे और ट्रे के टुकड़े भी पाए गये है.

सऊदी गेजेट के मुताबिक, मिशन के क्षेत्र सर्वेक्षण में अल-खर्ज पहाड़ों के आस-पास की पहाड़ियों में वादी निसाह की ओर इशारा किया गया, जो पहाड़ी पहाड़ियों का हिस्सा है, जो मावन घाटी, ईन फरज़ाने और पहाड़ियों को अल-शदीदाह शहर की ओर देखता है.

यह साइटें लगभग 100,000 साल पुरानी पालीओलिथिक काल की बताई जा रही है. यह पहली बार है कि पालीओलिथिक काल की साइटें अल-खर्ज के साथ-साथ ऊपरी पालीओलिथिक काल से संबंधित साइटों की खोज की गई है.

इस मिशन में पुरातात्विक उत्खनन के क्षेत्र में सऊदी और फ्रेंच वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों के 18 सदस्य शामिल हैं. जिन्होंने मिलकर इस अदभुत और रहस्यमीय पहाड़ी को खोज निकाला है.

संयुक्त सऊदी-फ़्रेंच मिशन रियाद क्षेत्र में अल-खर्ज गवर्नर में पुरातात्विक उत्खनन के लिए 21 सितंबर, 2011 को पर्यटन और राष्ट्रीय विरासत के लिए सऊदी आयोग और फ्रेंच पक्ष के बीच हस्ताक्षरित समझौते के ढांचे के भीतर काम करता है.